महिला हिंसा रोकने व आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश हेतु योगी सरकार का बड़ा फैसला

कानपुर, 29 अक्टूबर मां ने बेटे से सिर्फ इतना कहा कि आज फिर पीके आ गया,अगले महीने तेरी बहन की शादी है और इसी बात पर बात इतनी बढ़ गई कि बेटे ने नशे में फांसी लगा ली मां यह सदमा बर्दाश्त ना कर सकी और चल बसी बेटी यह सब देखकर अर्ध विक्षिप्त सी हो गई।

जिस परिवार में खुशियों की शहनाई बजने जा रही थी वहां पर सदैव के लिए एक शराब ने मातमी घर बना दिया उपरोक्त बात सोसाइटी योग ज्योति इंडिया के तत्वाधान में बूंदे संस्था के सहयोग से कोरोना मिटाओ नशा हटाओ बेटी बचाओ अभियान के तहत दनादन शिव मंदिर में आयोजित परिचर्चा विषय टूटते परिवारों में शराब की भूमिका पर अंतरराष्ट्रीय नशा मुक्त अभियान के प्रमुख योग गुरु ज्योति बाबा ने कही।

श्री ज्योति बाबा ने कहा कि शराब के नशे के चलते अकेले कानपुर की 800000 महिलाओं को शारीरिक मानसिक व आर्थिक शोषण का शिकार प्रतिदिन होना बनना पड़ रहा है क्योंकि घर की लाज व इज्जत बचाते बचाते वह महिला स्वयं पागल सी हो जाती है एक ओर महिला स्वाभिमान सम्मान व आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश की बात जोर शोर से की जा रही है वहीं महिलाओं के सम्मान और स्वाभिमान को तार-तार करने वाली शराब के प्रसार के लिए अब योगी सरकार में ठेके 12 घंटे खुलेंगे।

ज्योति बाबा ने कहा उत्तर प्रदेश की जनता कम से कम योगी सरकार से यह गंभीर उम्मीद कर सकती है कि वे यदि शराब को बंद नहीं कर सकते हैं तो उसे हर स्तर पर हतोत्साहित करने की कोई ठोस रणनीति तो जरूर बनाएं,क्योंकि शराब से सभी धर्मों व पंथ्यों के मानने वाले समान रूप से पीड़ित हो रहे हैं यदि ऐसा नहीं कर सकते हैं तो फिर नशा मुक्ति दिवस पर नशा मुक्त रहने का करोड़ो रुपया का झूठा अखबार और टीवी संदेश देना बंद करें।

जिसमें आप जनता से कहते हैं कि शराब व अन्य नशे आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है परिचर्चा का संचालन संजीव गुरु जी व धन्यवाद अजय शर्मा एडवोकेट ने दिया।सभी वक्ताओं ने एक स्वर में माननीय योगी सरकार से नम्र अनुरोध किया है कि शराब प्रसार नीति के चलते उत्तर प्रदेश बलात्कारियों का प्रदेश बन जाएगा इसीलिए महिला सशक्तिकरण को सफलीभूत बनाने हेतु इसे हर स्तर पर हतोत्साहित करें।अन्य प्रमुख विचारक सर्व श्री सुभाष त्रिपाठी एडवोकेट,आलोक मेहरोत्रा,राकेश चौरसिया,राजेंद्र कश्यप,राजेंद्र केसरवानी स्वामी गीता इत्यादि थी।

Most individuals are expected to complete a couple

Since you’re reading this, bear in mind that https://www.affordable-papers.net/ it isn’t necessarily easy to compose and that you will have to write a lot.

of essays for school entrance, although there are nevertheless some college classes where you may need to submit an established work instead of completing the assignment.

Share This:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *