स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी और श्री प्रहलाद सिंह पटेल जी ने प्रसिद्ध उद्योगपति श्री दिनेश शाहरा जी द्वारा लिखित काफी टेबल बुक ‘‘सनातन लीला’’ का किया विमोचन

ऋषिकेश, 8 अक्टूबर परमार्थ निकेतन में जल शक्ति व खाद्य प्रसंस्करण उद्योग राज्य मंत्री श्री प्रहलाद सिंह पटेल जी पधारे। परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी से भेंट कर आशीर्वाद लिया। स्वामी जी और माननीय श्री प्रहलाद सिंह पटेल जी ने जल संरक्षण, वर्षा जल संचयन, वाटरशेड विकास, भू-जल पुनर्भरण और पुनः उपयोग के लिये घरेलू अपशिष्ट जल प्रबंधन हेतु स्थानीय बुनियादी ढाँचे का निर्माण करना, पहाड़ों में हर घर तक जल पंहुचे आदि अनेक विषय पर विस्तृत चर्चा की।

माननीय श्री प्रहलाद सिंह पटेल जी ने स्वामी जी के सान्निध्य में सायंकालीन संकीर्तन में सहभाग कर परमार्थ निकेतन में रात्रि विश्राम किया तथा आज प्रातःकाल नवरात्रि के पावन अवसर पर हो रहे विश्व शान्ति हवन, माँ गंगा का दर्शन और पूजन में सहभाग किया। स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी और माननीय श्री प्रहलाद सिंह पटेल जी के करकमलों से नवरात्रि के पावन अवसर पर प्रसिद्ध समाज सेवी और उद्योगपति ‘लाइफ टाइम अचिवमेंट’ पुरस्कार से सम्मानित श्री दिनेश शाहरा जी द्वारा लिखित (काफी टेबल बुक) पुस्तक ’’सनातन लीला’’ का विमोचन किया। ’सनातन लीला पुस्तक’ की पहली प्रति श्री प्रहलाद सिंह पटेल जी को भेंट की।

स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने कहा कि आज नवरात्रि का दूसरा दिन माँ ब्रह्मचारिणी को समर्पित है। माँ ब्रह्मचारिणी की आराधना से तप, शक्ति, त्याग, सदाचार, संयम और वैराग्य में वृद्धि होती है। नवरात्रि पर्व में साधना, समर्पण और सेवा तीन पिलर प्रमुख है और इन्हीं तीन स्तंभों पर हमारा जीवन भी आधारित है। यह पर्व खुद को तलाशने, तराशने के साथ जीवन को बेहतर बनाने का पर्व है।

इस नवरात्रि पर नया संकल्प हो स्वयं से स्वयं की खोज करने का संकल्प हो। जीवन का उद्देश्य केवल यह नहीं है कि धन-दौलत, प्रसिद्धि और लाभ कमायें बल्कि अपना समय, ऊर्जा और संसाधनों का उपयोग पीड़ित मानवता के लिये भी करें। निमित्तमात्रं भव सव्यसाचिन्, हम तो केवल निमित्तमात्र है, इस भावना से साधना और सेवा करते रहें। अपने राष्ट्र की सेवा करें उस सेवा में जो आनन्द आयेगा, शान्ति मिलेगी और प्रसन्नता मिलेगी उस का अनुभव ही अद्भुत है। 

श्री प्रहलाद सिंह पटेल जी ने कहा कि आज नवरात्रि के प्रथम दिन पूज्य स्वामी जी का प्रेम और आत्मीयता मुझे परमार्थ ले आयी है। माँ गंगा की कृपा है कि आज मैं अपने परमार्थ परिवार के साथ संकीर्तन में माँ की गोद में बैठा हूँ। यहां आना एक सुखद, सात्विक और स्वर्णिम अनुभव है।श्री दिनेश शाहरा जी ने कहा कि परमार्थ निकेतन से मेरा 40 वर्ष पूराना रिश्ता है। पूज्य स्वामी जी कृपा से मुझे पूज्य संतों का सान्निध्य और दर्शन प्राप्त होता रहा है इसे मैं अपने पूर्वजों का आशीर्वाद ही मानता हूँ।

 

माननीय श्री प्रहलाद सिंह पटेल जी का श्री दिनेश शाहरा जी और योगाचार्य श्री विमल बधावन जी ने रूद्राक्ष का पौधा देकर अभिनन्दन किया। स्वामी जी ने कहा कि जल शक्ति ही जीवन शक्ति है। जल नहीं तो जीवन नहीं, इसलिये आईये नवरात्रि के अवसर पर जल संरक्षण और वृक्षारोपण का संकल्प लें। इस अवसर पर पेयजल निगम टीम के अधिकारी मुख्य अभियंता श्री एस सी पंत जी, अभियंता श्री दीपक मलिक जी, मुख्य अभियंता कृष्ण कुमार रस्तोगी जी, अधिशासी अभियंता श्री नमित रमोला जी, अभियंता पेयजल श्री अमित कुमार जी, सुश्री नन्दिनी त्रिपाठी जी, योगाचार्य श्री विमल बधावन जी, स्वामी सेवानन्द जी, आचार्य संदीप जी, आचार्य दीपक जी, श्री दिलीप जी, सुश्री रेशमी, परमार्थ गुरूकुल के ऋषिकुमार और परमार्थ परिवार के सदस्य उपस्थित थे।

Share This:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *