मिलावटी खाद्य पदार्थों से सजे बाजार प्रदेश सरकार के स्वास्थ्य मिशन की उड़ा रहे धज्जियां…ज्योति बाबा

कानपुर, 19 मार्च होली पर्व के चलते मिलावटी खाद्य पदार्थों के सौदागरों ने ज्यादा मुनाफा कमाने के चक्कर में लोगों को बीमारियां बांटने का काम ले लिया है उपरोक्त बात सोसाइटी योग ज्योति इंडिया के तत्वाधान में गणेश लक्ष्मी मूर्ति विसर्जन सेवा संस्थान के सहयोग से महाराणा मंदिर रावतपुर में इ- संगोष्ठी शीर्षक “क्या आम आदमी के स्वास्थ्य के दुश्मन मिलावटी खाद्य पदार्थों के सौदागर हैं” पर अंतरराष्ट्रीय नशा मुक्त अभियान के प्रमुख योग गुरु ज्योति बाबा ने कही,बाबा श्री ने आगे कहा कि डब्ल्यूएचओ के अनुसार हर साल दुनिया में मिलावटी खाद्य पदार्थों के कारण 60 करोड़ से ज्यादा लोग बीमार पड़ते हैं और लगभग पाँच लाख लोगों की मौत भी हो जाती है सबसे गंभीर बात मिलावटी भोजन से 200 से अधिक बीमारियां मानव में फैल जाती हैं।

ज्योति बाबा ने बताया की बंदूक की गोली से एक दो या चार लोग मरते हैं लेकिन मिलावटी भोजन से हजारों लाखों लोग खासतौर से बच्चों का जीवन असुरक्षित हो जाता है और इनके कारण हुई बीमारी से इलाज कराने में लोग आजीवन कर्जगीर बन जाते हैं सोशल एक्टिविस्ट सीमा खान एडवोकेट ने कहा कि ज्यादातर खाद्य पदार्थों को बेचने वाले बिल या वाउचर नहीं देते हैं परिणामस्वरूप मिलावटी भोजन से उत्पन्न बीमारियों का क्लेम उपभोक्ता अधिनियम के तहत नहीं मिल पाता है,कानून सख्त बनाना अच्छी बात है लेकिन उनको प्रभावी ढंग से लागू किए बिना समाज के अंतिम वर्ग को लाभ नहीं मिल सकता है।

वूमेन एक्टिविस्ट अनीता दुआ ने कहा कि प्रयागराज कुंभ नगरी में एक रिपोर्ट के अनुसार 84% खाद्य पदार्थों के नमूने अधोमानक व असुरक्षित पाया जाना हमारे सिस्टम की असफलता को दर्शाता है जबकि बच्चों को बचपन में मिले मिलावटी भोजन के चलते बिना किसी अपराध के उम्र भर के रोगी बन जाते हैं।इ-संगोष्ठी का संचालन आलोक मेहरोत्रा व धन्यवाद दीप कुमार मिश्रा सीए ने दिया।अन्य भाग लेने वाले प्रमुख कुमारी किरण साहू आयुर्वेदाचार्य,राकेश चौरसिया,गीता पाल,हर्ष त्रिवेदी,महंत राम अवतार दास,अनिल सैनी एडवोकेट इत्यादि थे।

Share This:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *