पूर्ण निष्ठा एवं ईमानदारी के बिना मित्रता मात्र एक छलावा…ज्योति बाबा

कानपुर, 2 अगस्त मित्रता का एक रोचक वर्गीकरण दर्शनशास्त्र के महापंडित तथा अलेक्जेंडर व प्लेटो के गुरु अरस्तु ने प्रस्तुत किया था उनके अनुसार मित्रता के तीन प्रकार हैं पहला self-interest से प्रेरित मित्रता जिसमें प्राप्त करने की इच्छा होती है दूसरा आनंद और अच्छा समय व्यतीत करने के उद्देश्य से की जाने वाली मित्रता तीसरा है आदर्श मित्रता जो मतलब और मौज मस्ती से परे होती है आज के समय अरस्तु के पहले व दूसरे केटेगरी में ज्यादा है उपरोक्त बात सोसायटी योग ज्योति इंडिया व राष्ट्रीय युवा हिंदू वाहिनी के संयुक्त तत्वाधान में नशा हटाओ कोरोना मिटाओ सच्ची मित्रता बढ़ाओ हरियाली लाओ अभियान के तहत मित्रता दिवस के परिप्रेक्ष्य में कोरोना गाइडलाइंस के तहत आयोजित ई-संगोष्ठी शीर्षक मित्र वही जो विपत्ति के समय मजबूती से खड़ा हो पर अंतरराष्ट्रीय नशा मुक्त अभियान के प्रमुख योग गुरु ज्योति बाबा ने कही।

ज्योति बाबा ने आगे बताया कि मित्रता,प्रेम आदि संबंधों के पीछे का सीक्रेट कहीं ना कहीं फ्रीक्वेंसी और वाइब्रेशन में छुपा है किसी भी कारणवश फ्रीक्वेंसी तथा वाइब्रेशंस में आने वाले चेंजेज लाइफ और रिलेशन में परिवर्तन का कारण बनते हैं भगवान महावीर ने मित्रता के संबंध में बताया कि तुम उसके साथ मित्रता करो जिसके जीवन में सत्य हो,यथार्थ हो,जिंदगी दोहरी ना हो,अच्छे संस्कारों से युक्त और जिसके जीवन में धर्म और अध्यात्म के लिए स्थान हो,ज्योति बाबा ने बताया कि अमेरिका के प्रसिद्ध मोटिवेशनल स्पीकर रिम जॉन के अनुसार हमारे व्यक्तित्व पर मित्रता एक अमिट छाप छोड़ती है और किसी भी व्यक्ति के बारे में उसके मित्रों की एनालिसिस कर सटीकता से अनुमान लगाया जा सकता है प्रदेश अध्यक्ष नीतू शर्मा ने कहा कि रहीम दास जी ने एक दोहे में सच्चे मित्र की पहचान बताई है कहि रहीम संपति सगे बनत बहुत बहुरीत बिपति कसौटी जे कसे तेई सांचे मीत कहने का अर्थ धनवान के तो बहुत सारे मित्र बन जाते हैं बुरे समय में आपके साथ जो खड़ा हो वही मित्र सच्चा है।

राष्ट्रीय संरक्षक डॉ आर पी भसीन ने कहा की मित्रता देखने सुनने में भले सरल लगे पर इसको निभाने के लिए ऑनेस्टी इंटीग्रिटी,म्यूच्यूअल रिस्पेक्ट और अनकंडीशनल सपोर्ट इसके प्रमुख इनग्रेडिएंट्स का पालन जरूरी है मंडल अध्यक्ष प्रीति सोनी ने कहा कि मित्रता में स्वार्थ आते ही निराशा,अवसाद और तनाव का जन्म हो जाता है और मित्रता कुछ ही समय में दम तोड़ देती है, सिंगर यशस्वी बाजपेई ने कहा कि मित्रता सभी करने का दम भरते हैं लेकिन निभाने के लिए आवश्यक दृढ़ इच्छाशक्ति प्रेम और सद्भाव ना के बराबर रखते हैं।मारवाड़ी एसोसिएशन के महामंत्री प्रदीप केडिया ने कहा कि आज मित्रता को हमने फास्ट फूड रेसिपी बना दिया है ई- संगोष्ठी का संचालन राष्ट्रीय समन्वयक हरदीप सिंह सहगल व धन्यवाद समाजसेवी दीपक सोनकर ने दिया।अन्य प्रमुख रोहित कुमार,श्री नारायण मिश्र,योगी,अनिल सिंह चंदेल,निर्मला राठौर,दीप्ति अवस्थी,नीतू गुप्ता,हर्ष सोनी,विनीता सिंह,संगीता तिवारी,संगीता गुप्ता इत्यादि थी।

Share This:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *