आधी रोटी खाओ.. बेटियों को बचाओ..नशा मुक्त भारत बनाओ…ज्योति बाबा

कानपुर, 1 अक्टूबर बलात्कार, कुपोषण,कोरोना,महिला हिंसा शोषण,बाल बंधुआ मजदूरी एवं गंदगी मुक्त वातावरण के लिए नशा मुक्त भारत अभियान को सब मिल सफल बनाना होगा,वरना कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता के चलते कोरोना के बाद उससे भी ज्यादा खतरनाक वायरस से कैसे जीवन की जंग जीत पाओगे,उपरोक्त बात सोसाइटी योग ज्योति इंडिया के तत्वाधान में बूंदे संस्था।

सुसंस्कार संस्था व अन्य सम विचारधारा की संस्थाओं के सहयोग से 2 अक्टूबर गांधी जयंती राष्ट्रीय नशा मुक्त दिवस की पूर्व संध्या पर आयोजित कोरोना नशा भारत छोड़ो मोटरसाइकिल जन जागरूकता मार्च के आयोजन अवसर पर अंतरराष्ट्रीय नशा मुक्त अभियान के प्रमुख योग गुरु ज्योति बाबा ने कही,

श्री ज्योति बाबा ने आगे कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी ने जिन मूल्यों और सिद्धांतों के लिए आजादी की लड़ाई का नेतृत्व किया उसमें स्वच्छता एवं नशा मुक्त भारत का संकल्प प्रधान था उनका मानना था कि व्यक्ति आत्मनिर्भर तभी तक रह सकता है जब तक उसका अपनी इंद्रियों पर पूर्ण नियंत्रण रहे,जबकि नशा के सेवनकर्ता अपने पर नियंत्रण खत्म कर देता है।

परिणामस्वरूप वह परिवार के साथ समाज पर बोझ बनकर राष्ट्र के विकास की गति को बाधित करता है इसीलिए देश के युवा धन को नशे के रोग से बचाकर ही शिक्षित होने का लाभ परिवार व समाज बेहतर तरीके से उठा सकता है इससे पूर्व मार्च का हरी झंडी दिखाकर उद्घाटन भारत के वरिष्ठ नेत्र विशेषज्ञ डॉ शरद बाजपेई ने करते हुए कहा कि नशे के परिणामों को एक अभिभावक बेहतर तरीके से हर पल झेल रहा है।

सुसंस्कार समिति के ओम नारायण त्रिपाठी ने कहा कि राष्ट्रीय नशा मुक्त दिवस पर 1 दिन का उपवास रखकर उससे बचे रुपयों को अपने बच्चों पर खर्च करें तो वह खिलखिलाएंगे उन्हीं में ईश्वर के दर्शन करें।

जागरूकता मार्च के संयोजक संजीव गुरु जी ने बताया कि कानपुर से चलकर शुक्लागंज उन्नाव नवाबगंज होते हुए लखनऊ जीपीओ में समाप्त होगी, और 2 अक्टूबर को माननीय मुख्यमंत्री जी को संबोधित ज्ञापन कोरोना को समाप्त करने के लिए उत्तर प्रदेश में पूर्ण नशाबंदी के लिए लखनऊ की अन्य संस्थाओं के साथ दिया जाएगा।

मार्च में बीच-बीच में नशे से दूर रहकर कोरोना को मिटाने का संकल्प भी कराया गया,नशा व कोरोना के खिलाफ जमके नारेबाजी के बीच ज्योति बाबा ने शपथ कराने के साथ नशा मुक्ति के जन जागृत गीत भी आमजन को सुनाएं।अन्य भाग लेने वाले प्रमुख सर्व श्री भूपेंद्र सिंह भाटिया, विनीत सिन्हा, वैष्णवी, मुन्ना चौरसिया, स्वामी गीता इत्यादि थे।

Share This:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *