कुपोषण ग्रस्त जीवन यापन करने वालों पर नशा प्रसार नीति बनी अभिशाप…ज्योति बाबा

कानपुर, 27 दिसंबर गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वालों पर सरकार की नशा प्रसार नीति महा अभिशाप बन रही है क्योंकि जिस देश की संविधान प्रस्तावना में एक सामाजिक गणराज बनाने की बात की गई हो उस राष्ट्र की जिम्मेदारी बनती है कि उसके सभी नागरिकों के लिए सम्मानित जिंदगी सुनिश्चित की जाए जबकि सरकारी शराब के ठेकों को गरीब की बस्तियों में खोलकर हम स्वस्थ भारत फिट इंडिया मूवमेंट को कैसे सफलीभूत बना पाएंगे।

उपरोक्त बात सोसायटी योग ज्योति इंडिया के तत्वाधान में सेम डे के सहयोग से नशा हटाओ कोरोना मिटाओ बेटी बचाओ प्रदूषण भगाओ अभियान के तहत अंबेडकर प्रतिमा के सामने नशा हटाओ बेटी बचाओ के लिए मानव श्रृंखला के बाद सोशल डिस्टेंसिंग नियमों के तहत हुई स्वास्थ्य सभा में अंतरराष्ट्रीय नशा मुक्त अभियान के प्रमुख योग गुरु ज्योति बाबा ने कही।

बाबा श्री ने आगे कहा की एक ओर हमारे यहां नित्य नई बीमारियों का अंबार लग रहा है वहीं दूसरी ओर सरकारी स्वास्थ्य व्यवस्था चरमरा रही है और उस पर नशे की सैकड़ों वैध अवैध प्रजातियों से देश के युवा धन को कैसे बचाया जाएगा,बाबा श्री ने द्रवित मन से कहा कि कुपोषण ग्रस्त पीढ़ी को हम भुखमरी रेखा कह सकते हैं मेडिकल रिपोर्ट कहती है कि कुपोषण ग्रस्त बच्चे नशे का सेवन बहुत ज्यादा करते हैं इसीलिए नशा प्रसार नीति पर गंभीरता से लगाम लगाने के लिए जनप्रिय सरकार को व्यापक राष्ट्रीय युवा धन के हित में काम करना ही पड़ेगा,वरना जो नुकसान 900 सालों की गुलामी में आक्रमणकारी आक्रांता ना कर सके वह काम आजादी के 100 सालों में हमारे नीति निर्माता नशा प्रसार नीति के चलते कर लेंगे।

मानव श्रृंखला में जोरदार नारे जो हुआ शराब का शिकार उसने फूंक दिया घर बार, शराब हटाओ परिवार बचाओ इत्यादि के जोरदार नारे सुश्री संध्या ने लगाए।अंत में योग गुरु ज्योति बाबा ने भारतीय इतिहास में अमिट शहादत देने वाले सनातन हिंदू धर्म की रक्षार्थ गुरु गोविंद सिंह साहब के पूरे परिवार को श्रद्धा से नतमस्तक होते हुए सभी को नशे के विरुद्ध लामबंद होकर काम करने की शपथ दिलाई।भाग लेने वाले प्रमुख स्वामी गीता,संदीप तिवारी,दीपक सोनकर,दुर्गाशंकर,राकेश जाखोडिया,राजेश गुप्ता वैष्णवी,भाई किशोर इत्यादि थे।

Share This:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *