वर्षा जल को बचाकर हम भूजल स्तर को करें समर्थ..ज्योति बाबा

कानपुर, 23 मार्च जल उपलब्धता को हर एक की पहुंच में लाने के लिए हमें शीघ्रता और प्रतिबद्धता के साथ वन विहीन क्षेत्रों को जल संग्रहण क्षेत्र में बदलना ही होगा,उपरोक्त बात सोसाइटी योग ज्योति इंडिया व उत्तर प्रदेश वैश्य व्यापारी महासभा के संयुक्त तत्वाधान में विश्व जल दिवस के परिप्रेक्ष्य में नशा हटाओ बेटी बचाओ प्रदूषण मिटाओ कुपोषण भगाओ अभियान के तहत संस्था ऑफिस रावतपुर में आयोजित ई संगोष्टी शीर्षक “जल है तो कल है” पर अंतरराष्ट्रीय नशा मुक्त अभियान के प्रमुख योग गुरु ज्योति बाबा ने कही।

ज्यो ति बाबा श्री ने आगे कहा कि इस वर्ष संयुक्त राष्ट्र ने पानी का महत्व का नारा देकर आने वाली पीढ़ियों के लिए शुद्ध जल बचाए रखने की ठोस योजना बनाकर काम करने का आव्हान किया है संयुक्त राष्ट्र की चिंता यही है कि पानी को लोगों की आस्था और आत्मा से कैसे जोड़ा जाए, ताकि देश मे बारहमासी बन चुकी जल की किल्लत से निपटा जा सके।

प्रदेश अध्यक्ष सत्यप्रकाश गुलहरे ने कहा कि देश के 60% जिलो में भूजल का अति दोहन होने के साथ उनकी गुणवत्ता बेहद खराब हो चुकी है अध्ययन बताते हैं कि ज्यादातर बीमारियों के लिए अशुद्ध पानी जिम्मेदार है जिसके महंगे इलाज के चलते गरीब व मध्यम कर्ज़गीर बनकर पूरे जीवन के लिए अभावग्रस्त हो जाते हैं प्रदेश महामंत्री गणेश कुमार गुप्ता ने कहा कि देश की नदियों को साफ करने के लिए करोड़ों रुपए बर्बाद हो चुके हैं लेकिन वे पहले से ज्यादा प्रदूषित हैं भूजल की गुणवत्ता सतह पर मौजूद जल से अधिक खराब हो चुकी है इसीलिए सरकार के साथ-साथ संस्थाओं व समाज को सच्चे मन व ईमानदारी से कदम उठाकर आने वाली पीढ़ियों के लिए पीने लायक पानी बचा सकते हैं संगोष्ठी का संचालन प्रदेश महामंत्री संगठन अनूप अग्रवाल ने किया व धन्यवाद प्रदेश उपाध्यक्ष इंजीनियर जगमोहन गुप्ता ने दिया।अन्य प्रमुख प्रदेश महामंत्री आनंद कुमार गुप्ता,के पी गुप्ता,रवि गुप्ता,वरिष्ठ उपाध्यक्ष इंजीनियर जगमोहन गुप्ता,राम गोपाल गोयल, उमेश लोहिया,सुरेश गुप्ता,देवेंद्र गुप्ता डॉ अर्चना गुप्ता स्वर्ण कांति साहू बीना अग्रवाल,स्वामी गीता,राकेश चौरसिया, दीपांशु गुप्ता इत्यादि थे।

Share This:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *