गुरु का कन्या राश‌ि में प्रवेश, देश दुन‌िया और आप पर असर

नवग्रहों में सबसे बड़ा ग्रह गुरु इस हफ्ते अपने ‌म‌ित्र सूर्य की राश‌ि से न‌िकलकर शत्रु राश‌ि कन्या में प्रवेश करेंगे। ज्‍योत‌िषशास्‍त्र में गुरु के राश‌ि पर‌िवर्तन को बड़ी घटना के रूप में देखा जाता है क्योंक‌ि यह घटना पूरे एक साल में एक बार होती है ज‌िसका प्रभाव सभी राश‌ियों पर होता है। गुरू शिक्षा, व्यवसाय, मांगलिक कार्य, अध्यात्म, तत्वज्ञान, तीर्थयात्रा के अलावा अध्यापन, लेखन, कला के क्षेत्र के लोगों के लिए भी कारक ग्रह हैं। इसल‌िए इनका प्रभाव अर्थ व्यवस्‍था और समाज‌ पर भी देखा जाता है। तो जानें गुरु के राश‌ि पर‌िवर्तन का क्या असर होगा देश, दुन‌िया और आप पर।

ज्योत‌िषशास्‍त्र के अनुसार स‌िंह राश‌ि से कन्या राश‌ि में गुरू का प्रवेश होने से गुरु चांडाल योग समाप्‍त होगा ज‌िससे थोड़ी राहत म‌िलेगी लेक‌िन शत्रु राश‌ि में जाने से गुरु अपना पूर्ण शुभ फल नहीं दे पाएंगे। ज्योत‌िषशास्‍त्र की गणना के अनुसार कन्या राश‌‌ि में गुरु का जाना आर्थ‌िक मामलों में अनुकूल फलदायी नहीं है।

गुरू कन्या राश‌ि में करीब एक साल रहेंगे इस राश‌ि में गुरु का गोचर इस बात की आशंका को बढ़ा रहा है क‌ि अन्तर्राष्ट्र‌ीय आतंकवाद की घटनाएं आगे और बढ़ने वाली हैं। जहां तक भारत की बात है तो पड़ोसी देशों में भारत के संबंध पहले से ज्यादा ब‌िगड़ सकते हैं और तनाव बढ़ेगा लेक‌िन पश्च‌‌मी देशों में संबंध बेहतर होंगे आर्थ‌िक मामलों में आपसी सहयोग बढ़ेगा।

Share This:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *